madhya pradesh
Madhya Pradesh

22 मार्च को जनता कर्फ़्यू था। 23 मार्च को मध्यप्रदेश की कांग्रेस सरकार गिराकर रात में बीजेपी के शिवराज चौहान ने मुख्यमंत्री की शपथ ली। ऑपरेशन पूरा होने पर फिर संसद को स्थगित किया। 24 को लॉकडाउन हुआ।

25 दिन हो गए। आपको जानकर हैरानी होगी कि इस गंभीर विपदा के समय में मध्यप्रदेश में कोई कैबिनेट नहीं है। अकेला मुख्यमंत्री है वह भी क्वारांटाइन में रहे। वहाँ कोई स्वास्थ्य मंत्री नहीं है। और तो और वहाँ के स्वास्थ्य विभाग की प्रधान सचिव ख़ुद क्वारांटाइन में रही क्योंकि उनका बेटा विदेश से आया था और उसने यह बात छिपाई थी।

मध्यप्रदेश में कोरोना के कारण दयनीय स्थिति है। लेकिन मीडिया सवाल नहीं पूछेगी क्योंकि वहाँ आकाओं की अनैतिक सरकार है। कोरोना के बीच में इन्होंने निम्नस्तरीय राजनीति की और अब शिवराज चौहान ने बिना कैबिनेट के सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री बने रहने का रिकॉर्ड भी बना दिया।

अब मत बोलना कि राजनीति हो रही है। इनके सारे पाप माफ़ है क्योंकि आपकी धारणा बनाने वाली मीडिया इनके साथ है।

  • संजय यादव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here