virendra mast
Virendra Mast

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद के बाद अब BJP सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त ने देश में आर्थिक मंदी की बात को खारिज करने के लिए अजीबो-ग़रीब तर्क दिया है। उनका कहना है कि देश में मंदी होती वो कोट-जैकेट के बजाय कुर्ता और धोती पहनते।

अपने संसदीय क्षेत्र बलिया में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वीरेंद्र सिंह मस्त ने कहा कि ‘दिल्ली समेत पूरी दुनिया में मंदी पर चर्चा हो रही है। अगर देश में मंदी होती तो हम यहां कोट और जैकेट के बजाय धोती और कुर्ता पहनकर आते। अगर मंदी होती तो हम कपड़े नहीं खरीदते, पैंट और पायजामा नहीं खरीदते।’

बता दें कि इस समय देश आर्थिक सुस्ती की मार झेल रहा है। इस वित्त वर्ष यानी 2019-20 में महज 5 फीसदी का ग्रोथ होने का अनुमान है। इस वित्त वर्ष की सितंबर में खत्म दूसरी तिमाही में तो महज 4.8 फीसदी की ग्रोथ हुई है।

देश के कई सेक्टर्स में मंदी की वजह से भारी संख्या में लोगों की नौकरी गई है। ऑटो सेक्टर के लिए तो हाल का वक्त बेहद ख़राब रहा है। इसके बावजूद बीजेपी नेताओं की ओर से अजीबो-ग़रीब तर्क देकर मंदी की बात से इनकार किया जाता रहा है।

इससे पहले केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मंदी से इनकार करते हुए कहा था कि फिल्में अच्छा कारोबार कर रही हैं और करोड़ों कमा रही है। उन्होंने कहा था कि तीन हिंदी फिल्में एक दिन में 120 करोड़ रुपये का कारोबार कर रही हैं, तो फिर देश में मंदी कहां है? वहीं वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि ओला और उबर ऑटो सेक्टर में सुस्ती के लिए ज़िम्मेदार हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here