chandra kumar bose
Chandra Kumar Bose

देश की आज़ादी के में सुनहरे अक्षरों में दर्ज नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के पोते चंद्र कुमार बोस ने नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हो रहे विरोध के बीच एक बार फिर बयान दिया है। भाजपा नेता चंद्र कुमार बोस ने अपनी पार्टी बीजेपी को दो टूक कहा है कि, सिर्फ इसीलिए कि आज हमारे पास संख्या है, हम डराने की राजनीति नहीं कर सकते।”

समाचार एजेंसी एएनआई को दिए इन्टरव्यू में चंद्र बोस ने अपनी पार्टी बीजेपी को सुझार देते हुए कहा कि लोगों को नागरिकता संशोधन कानून के फायदों के बारे में बताना जा चाहिए।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के पोते ने CAA का किया विरोध, पत्रकार बोले- अब भक्त इन्हें भी गालियां देंगे

उन्होंने कहा, “मैंने अपने पार्टी नेतृत्व को सुझाव दिया है कि थोड़े से संशोधन के साथ पूरा विपक्ष के अभियान को ठप किया जा सकता है। हमें विशेष रूप से यह बताने की जरुरत है कि यह अत्याचार झेल रहे अल्पसंख्यकों के लिए है, हमें किसी धर्म का उल्लेख नहीं करना चाहिए। हमें अपना नजरिया बदलना होगा।”

चंद्र कुमार बोस ने आगे कहा, “जब बिल कानून के रूप में पास हो जाता है तो यह कानूनी रूप से राज्य सरकारों के लिए बाध्यकारी हो जाता है, लेकिन एक लोकतांत्रिक देश में आप नागरिकों पर किसी भी कानून को जबरन नहीं लागू कर सकते। हमारा काम लोगों को यह समझाना है कि हम सही हैं और वे गलत हैं। सिर्फ इसीलिए कि आज हमारे पास संख्या है, हम डराने की राजनीति नहीं कर सकते। हमें लोगों को नागरिकता संशोधन कानून के फायदों के बारे में लोगों को बताना चाहिए।”

CAA पर बोले NCP नेता- आज वो लोग हमसे सबूत मांग रहे हैं, जिनके बाप अंग्रेजों के तलवे चाटते थे

इससे पहले चन्द्र कुमार बोस ने पिछले महीने ट्वीट करके कहा था कि, “भारत एक ऐसा देश है, जो सभी धर्मों और समुदायों के लिए खुला है। अगर नागरिकता संशोधन कानून किसी धर्म से जुड़ा नहीं है तो इसमें केवल हिन्दू, सिख, बुद्ध इसाई, पारसी और जैन ही क्यों शामिल है। इनकी तरह मुस्लिमों को भी इसमें शामिल क्यों नहीं किया गया। इसे पारदर्शी होना चाहिए।“

इसके साथ ही उन्होंने ये भी कहा था कि, “भारत की किसी अन्य देश से तुलना मत कीजिए, क्योंकि भारत सभी धर्मों और समुदायों के लिए खुला देश है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here