kanhaiya kumar
Kanhaiya Kumar

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ देश में विरोध प्रदर्शन दिन पर दिन बढ़ते जा रहे हैं। लोग इस कानून को संविधान के विरुद्ध बता रहे है। खासकर दलित, पिछड़ों और अल्पसंख्यक समुदाय इस कानून के खिलाफ सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्हें डर है की बीजेपी सरकार इस कानून से पूरे देश एनआरसी करवाएगी और उनकी नागरिकता छीनी जा सकती है।

वहीं इस कानून के खिलाफ देश की राजधानी समेत पूरे उतर भारत के राज्यों में भारी प्रदर्शन चल रहे हैं। जहां प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच हिंसक झड़पों की ख़बरें सामने आ रही हैं।

टोपी पहन BJP कार्यकर्ता ने की पत्थरबाज़ी, प्रशांत बोले- इसीलिए मोदी ने कपड़ों से पहचानने के लिए कहा था

इस मामले में जेएनयू के पूर्व छात्र अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने कहा, ”कल देश के हर कोने में देश के नागरिकों ने नागरिक विरोधी CAA-NRC का शांतिपूर्ण विरोध किया लेकिन भाजपा शासित राज्यों में ही हिंसा हुई, क्यों? बिल्कुल साफ़ है कि लोगों पर यह पुलिसिया बर्बरता सरकार के इशारे पर की जा रही है”।

दरअसल कन्हैया कुमार ने बीजेपी शासित राज्यों में हुए प्रदर्शन के दौरान हिंसा की आलोचना की है। नागरिकता कानून का पहले पूर्वोत्तर के राज्यों में विरोध कर रहे लोगों के ऊपर पुलिस ने हिंसक तरीके से बर्ताव किया है। जहां असम में प्रदर्शन कर रहे दो लोगों की जान चली गयी। इन प्रदेशों में बीजेपी की सरकार है।

वहीं देश की राजधानी दिल्ली और उत्तर प्रदेश जहां की पुलिस बीजेपी सरकार के अंडर आती है। वहां भी प्रदर्शन कर रहे लोगों के साथ पुलिस की हिंसक झड़पों की ख़बरें आ रही हैं। जहां फिरोजाबाद में भी गोली लगने से एक की मौत और कानपुर में प्रदर्शन कर रहे सात लोग घायल हो गए है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here