बीते कई सालों से लेफ्ट की विचारधारा से जुड़े युवा नेता कन्हैया कुमार द्वारा सीपीआई छोड़ बीते दिनों कांग्रेस की सदस्य्ता ग्रहण कर ली है।

कन्हैया कुमार के लेफ्ट छोड़ कांग्रेस से जुड़ने के बाद उन्होंने मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए भाजपा पर निशाना साधा है।

कांग्रेस को चुने जाने पर कन्हैया कुमार का कहना है कि जब नरेंद्र मोदी साल 2014 में पहली बार प्रधानमंत्री बने थे। तो उन्होंने ये बात कही थी कि हम कांग्रेस मुक्त भारत बनाना चाहते हैं।

यह बात उन्होंने तब कही थी कि जबकि वो जानते हैं कि कांग्रेस इस देश की सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी है।

हम सब जानते हैं कि कांग्रेस इस देश की सबसे पुरानी पार्टी है और सबसे ज्यादा ज्यादा सांसद सत्ता पक्ष के बाद कांग्रेस के पास है। जो बात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कही थी उसका मतलब है कि आप लोकतंत्र विपक्ष के बिना चाहते हैं।

आज भाजपा की स्थिति देख लीजिए कि उनके ही मंत्री प्रधानमंत्री से सवाल नहीं कर सकते। यह अपने आप में ही एक तानाशाही व्यवस्था कायम की जा रही है।

इस तानाशाही के खिलाफ देश की सबसे पुरानी और लोकतांत्रिक पार्टी का अस्तित्व में होना और मजबूत होना बहुत जरूरी है। यह सिर्फ कांग्रेस के लिए लिए ही नहीं बल्कि देश की संसदीय व्यवस्था के लिए जरूरी है।

सोशल मीडिया पर कन्हैया कुमार को देशद्रोही बताए जाने के सवाल पर उन्होंने जवाब देते हुए कहा कि भारत में सबसे आसान काम है किसी पर आरोप लगाना।

भाजपा ने मुझ पर बहुत बड़ा आरोप लगाया है। जो कि कई सालों से चल रहा है।

मैं भाजपा से ही पूछना चाहता हूं कि अगर मैं देशद्रोही हूं तो मुझे अब तक सरकार द्वारा गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया?

अगर किसी और पार्टी की सरकार होती। तब भी समझ आता है कि हम इस तरह से खुलेआम घूमते रहते।

 

केंद्र में भाजपा की सरकार है तब भी इस मामले पर मुझ पर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। तो इसके जिम्मेदार देश के गृहमंत्री और प्रधानमंत्री हैं।

मैं सच के साथ खड़ा हूं। इसलिए मैं यह कह रहा हूं कि सच और अहिंसा के रास्ते पर चलने वाले लोगों को कांग्रेस के साथ आना चाहिए और भाजपा के खिलाफ लड़ाई लड़नी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here