सरकारी न्यूज़ एजेंसी एएनआई की एक तस्वीर ने मोदी के विकास के दावे की पोल खोल कर रख दी है। वह भी हकीक़त ऐसी की वहां के निवासियों की तकलीफें सुन आपके रोम सिहर जाए।

एएनआई के अनुसार, सूरत जिले के सोनगढ़ तहसील में आने वाला गांव माल के निवासियों की हालत ऐसी ही जैसे दुनिया के सबसे बदतर देश सोमालिया, नाइजीरिया और इथोयोपिया जैसे अफ्रीकी देशों के लोगों की है।

एएनआई के अनुसार माल के निवासियों का कहना है कि पानी के लिए गांव वालों को चार किलोमीटर तक पैदल जाना पड़ता है। गांव को जोड़ने के लिए किसी प्रकार की सड़क नहीं जिससे गांव में टैंकर से भी पानी नहीं आ पाता है।

सालों पहले गांव में एक हैंडपम्प लगवाया गया था जो अब खराब हो चुका है। गांव वालों के अनुसार पानी लाने के लिए उन्हें सुबह में 3-4 बजे उठकर 4 किलोमीटर जाकर पानी लाना पड़ता है।

चुनाव बहिष्कार की बना रहे योजना

एएनआई के अनुसार पानी-सड़क की समस्याओं से परेशान गांव वाले चुनाव का पहले भी बहिष्कार कर चुके हैं, लेकिन फिर भी गांव में विकास का कोई काम नहीं हुआ है वहीं गांव वाले सड़क और पानी की परेशानी को लेकर दोबारा चुनाव बहिष्कार की सोच रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here