देश में जहां चारों ओर कोरोना की दूसरी लहर और ब्लैक फंगस से त्राहिमाम मचा हुआ है, वैसे में अपने विभाग के दायित्वों को छोड़कर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन उद्योग मंत्री की तरह बयान दे रहे हैं और ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के लिए प्रधानमंत्री की पीठ थपथपा रहे हैं।

डॉ हर्षवर्धन ने ट्वीट करते हुए कहा है कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के कुशल नेतृत्व में ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में भारत की रैंकिंग लगातार सुधरती जा रही है।

भारत आज इस रैंकिंग में 63वें स्थान पर पहुंच गया है। भारत में कारोबार करने के माहौल में निरंतर हो रहे सुधार से हम इस रैंकिंग में लगातार आगे बढ़ते जा रहे हैं।

कायदे से डॉ हर्षवर्धन को वर्तमान समय में स्वास्थ्य विभाग में हो रहे कार्यों से देश को अवगत कराना चाहिए था, जिससे की महामारी से टूट चुके देश की जनता को थोड़ी राहत मिलती और माहौल सकारात्मक बनता लेकिन वो उद्योग मंत्री बनकर बयान दे रहे हैं और चाटुकारिता में प्रधानमंत्री को बधाई दे रहे हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन के इस बयान पर वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने तंज कसते हुए कहा कि “लिजिए, भारत के नए उद्योग मंत्री का स्वागत किजिए. स्वास्थ्य मंत्रालय का सारा कामकाज निपटा कर अब उद्योग मंत्रालय का भी पता रखने लगे हैं।

जब देश में बिजनेस चौपट हो गया है, तब ये ईज ऑफ बिजनेस का जश्न मना रहे हैं.”

आज देश की इकोनॉमी दम तोड़ चुकी है, ये बात सब जानते हैं। उद्योग धंधों से लेकर मझोले और छोटे कारोबारी तक लगातार निपटते जा रहे हैं, ये भी सबके सामने हैं।

इसके बाद भी किस बात को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री प्रधानमंत्री की पीठ थपथपा रहे हैं, ये समझ से परे हैं। इस माहौल में भी ईज ऑफ डूइंग का जश्न मनाना लोगों के जख्मों पर नमक छिड़कने जैसा है।

ये वही स्वास्थ्य मंत्री हैं जिनके नेतृत्व में देश में कोरोना वैक्सीनेशन का कार्यक्रम चल रहा है जो अभी तक लगभग असफल है. वैक्सीन उपलब्ध नहीं है और इसे लेकर रोजाना नई नई घोषणाएं की जा रही हैं।

कोर्ट लगातार सरकार को फटकार लगा रही है कि जब आपके पास वैक्सीन उपलब्ध ही नहीं था तो आपने वैक्सीनेशन का प्रोग्राम कैसे बना दिया?

अपने विभाग से जुड़े इन मुद्दों की बजाय केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री का उद्योगों के मुद्दे पर बयान देना बताता है कि इस देश में अंधेर नगरी और चौपट राजा की स्थिति बन चुकी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here