मोदी सरकार के कार्यकाल में जहां देश में अर्थव्यवस्था तहस-नहस हो चुकी है। वहीं देश में सांप्रदायिकता और हिंसा के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं।

गौरतलब है कि भारत में भाजपा की सरकार बनने के बाद से ही धर्म विशेष के लोगों को टारगेट किया जाना आम बात बन चुकी है। बीजेपी की छत्र-छाया में हिंदूवादी संगठनों की गुंडागर्दी चरम सीमा पर है।

इसी बीच आर्म्ड कनफ्लिक्ट् लोकेशन एंड इवेंट डाटा प्रोजेक्ट की एक रिपोर्ट सामने आई है। जिसमें ये दावा किया जा रहा है कि नागरिकों के ख़िलाफ़ हिंसा के मामले में भारत दूसरे नंबर पर है।

भले ही मोदी सरकार अपने कार्यकाल में भारत को एक सहनशील देश करार देती रहे लेकिन इस रिपोर्ट ने आम जनता के बीच भारत की सच्चाई ला कर रख दी है। इस रिपोर्ट में पहले नंबर पर नाइजीरिया और तीसरे नंबर पर मेक्सिको का नाम है।

इस रिपोर्ट को शेयर करते हुए कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है।

रणदीप सुरजेवाला ने इस रिपोर्ट को शेयर करते हुए लिखा कि “अब देश पूरी दुनिया में नागरिकों के खिलाफ हिंसा में दूसरे नंबर पर.. मोदी है तो मुमकिन है। कांग्रेस नेता के इस ट्वीट पर सोशल मीडिया यूज़र्स की मिली जुली प्रतिक्रियाएं सामने आ रही है।

एक यूज़र ने इसपर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा- ये फ़र्जी मसीहा सदियों से सजा वतन बेच देंगे, दर्जी जैसे माप-माप कर देश की चमन धरा बेच देंगे, अगर आँख खोली न अपनी अभी तो.. ये दरिया ए गंग-ओ जमुन बेच देंगे।। लग गया है जो इनको दौलत का रोग ऐसा.. अपना दीन इम्मान धरम बेच देंगे,फिर भी कम पड़ा तो लोगो का तन बेच देंगे।

वहीँ एक अन्य यूज़र ने लिखा है कि मोदी सरकार ने देश को हिंसा, सांप्रदायिकता, धार्मिक कट्टरता उन्माद, जातीय विभाजन ही तो दिया है। यूपीए शासनकाल में शिक्षा, विकास और रोजगार पर चर्चाएं होती थी लेकिन आज तो भाजपा शासन में अपनी विफलता को छुपाने के लिए सिर्फ मंदिर, मस्जिद, हिंदू ,मुसलमान ही मुद्दे रह गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here